धर्म

Aaj Ka Panchang 21 June: कालाष्टमी व्रत आज, दिन भर रहेंगे काण और सिद्धि योग

Aaj Ka Panchang 21 June: राहुकाल और शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

दिनांक 21 जून 2022

दिन – मंगलवार

विक्रम संवत – 2079

शक संवत – 1944

अयन – उत्तरायण

ऋतु – वर्षा

मास – आषाढ़

पक्ष – कृष्ण

तिथि – अष्टमी रात्रि 08:30 तक तत्पश्चात नवमी

नक्षत्र – उत्तर भाद्रपद प्रातः 05:03 तक तत्पश्चात रेवती

योग – आयुष्मान सुबह 06:41 तक तत्पश्चात सौभाग्य

राहु काल – शाम 04:05 से 05:46

सूर्योदय – 05:55

सूर्यास्त – 07:28

दिशा शूल – उत्तर दिशा में

ब्रह्म मुहूर्त – प्रातः 04:31 से 05:13 तक

निशिता मुहूर्त – रात्रि 12:21 से 01:02 तक

व्रत पर्व विवरण – दक्षिणायन

विशेष – अष्टमी को नारियल का फल खाने से बुद्धि का नाश होता है ।
(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

21 जून 2022 – दक्षिणायन आरम्भ

(पुण्यकाल : सूर्योदय से सूर्यास्त तक)

उत्तरायण या दक्षिणायन के आरम्भ होने के दिन किया गया जप-ध्यान व पुण्यकर्म कोटि-कोटि गुना अधिक व अक्षय होता है । (पद्म पुराण)

बहूपयोगी औषधि – सोंठ

जब अदरक सूख जाता है तब उसकी सोंठ बनती है । सोंठ पाचनतंत्र के लिए अत्यंत उपयोगी है । यह सारे शरीर के संगठन को सुधारती है, मनुष्य की जीवनशक्ति और रोगप्रतिरोधक शक्ति बढ़ाती है । यह आम, कफ व वात नाशक है । गठिया, दमा, खाँसी, कब्जियत, उल्टी, सूजन, ह्रदयरोग, पेट के रोग और वातरोगों को दूर करती है ।

औषधीय प्रयोग

वातनाशक गोलियाँ : सोंठ के चूर्ण में समभाग गुड़ और थोड़ा सा घी डाल के २- २ ग्राम की गोलियाँ बना लें । १ -२ गोली सुबह लेने से वायु और वर्षाकालीन जुकाम से रक्षा होती है । बारिश में सतत भीगते – भीगते काम करनेवाले किसानों और खेती के काम में लगे मजदूरों के लिए यह अत्यंत लाभदायक है । इससे शारीरिक शक्ति व स्फूर्ति बनी रहती है ।

सिरदर्द : सोंठ को पानी के साथ घिस लें । इसका लेप माथे पर करने से कफजन्य सिरदर्द में राहत मिलती है ।

मन्दाग्नि : सोंठ का आधा चम्मच चूर्ण थोड़े से गुड़ में मिलाकर कुछ दिन प्रात:काल लेने से जठराग्नि तेज हो जाती है और मन्दाग्नि दूर होती है ।

कमर दर्द व गठिया : सोंठ को मोटा कूट लें । १ चम्मच सोंठ २ कप पानी में डाल के उबालें । जब आधा कप पानी बचे तो उतार के छान लें । इसमें २ चम्मच अरंडी का तेल डाल के सुबह पियें । दर्द में राहत होने तक हफ्तें में २ -३ दिन यह प्रयोग करें ।

पुराना जुकाम

१) ५ ग्राम सोंठ १ लीटर पानी में उबालें । दिन में ३ बार यह गुनगुना करके पीने से पुराने जुकाम में लाभ होता है ।

२) पीने के पानी में सोंठ का टुकड़ा डाल कर वह पानी पीते रहने से पुराना जुकाम ठीक होता है । ( सोंठ के टुकड़े को प्रतिदिन बदलते रहें । )

सर्दी – जुकाम : ५ ग्राम सोंठ चूर्ण, १० ग्राम गुड़ और १ चम्मच घी को मिला लें । इसमें थोड़ा सा पानी डाल कर आग पर रखके रबड़ी जैसा बना लें । प्रतिदिन सुबह लेने से ३ दिन में ही सर्दी – जुकाम मिट जाता है ।

सावधानी – रक्तपित्त की व्याधि में तथा पित्त प्रकृतिवाले ग्रीष्म व शरद ऋतु में सोंठ का उपयोग न करें ।
स्त्रोत – लोक कल्याण सेतु – जून २०१६ से

Insta loan services

यह भी पढ़े: दिल्‍ली के इन इलाकों में हो सकती है पानी की समस्या, पहले से कर लें तैयारी

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button