धर्म

Bhaumvati Amavasya: इस वर्ष की आखिरी भौमवती अमावस्या? जानें डेट, मुहूर्त

भौमवती अमावस्या, जिसे भौमी अमावस्या भी कहा जाता है, हिन्दू पंचांग में एक महत्वपूर्ण तिथि है जो प्रतिवर्ष आती है। इस वर्ष, भौमवती

भौमवती अमावस्या, जिसे भौमी अमावस्या भी कहा जाता है, हिन्दू पंचांग में एक महत्वपूर्ण तिथि है जो प्रतिवर्ष आती है। इस वर्ष, भौमवती अमावस्या 2023 भारतीय कैलेंडर के अनुसार विशेष महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह साल की आखिरी भौमवती अमावस्या होगी।

तिथि और मुहूर्त: इस वर्ष, भौमवती अमावस्या 2023 की तारीख [तारीख यहाँ दर्शाई जा सकती है], होगी। इस दिन, सूर्य और चंद्रमा एक साथ ग्रहण करते हैं, जिससे यह तिथि अत्यंत महत्वपूर्ण होती है।

पौराणिक महत्व: भौमवती अमावस्या का महत्व पौराणिक कथाओं में है। यह तिथि भगवान शिव और माता पार्वती की कृपा दिवस के रूप में जानी जाती है। भक्त इस दिन व्रत रखते हैं और शिव पूजा करते हैं। इसके अलावा, कुछ लोग भौमवती अमावस्या को पितृपक्ष के अंत में पितृ तर्पण के लिए भी महत्वपूर्ण मानते हैं।

व्रत और पूजा: इस दिन, भक्त शिव मंदिरों में भारी संख्या में पहुंचते हैं और अपने ईश्वर की पूजा अर्पित करते हैं। विशेष रूप से भौमवती अमावस्या को सावन मास में मनाने में भी विशेष आनंद है। भगवान शिव को बिल्वपत्र, धतूरा, रुद्राक्ष माला, और गंगा जल से अर्चना की जाती है।

समापन: इस विशेष दिन को ध्यान में रखते हुए, भक्त अपने जीवन में शुभता, समृद्धि और धार्मिकता का माहौल बनाए रखते हैं। भौमवती अमावस्या 2023 एक ऐसी अवसर है जब लोग अपने आत्मा की शुद्धि और मानवता के प्रति अपने कर्तव्यों को समझते हैं। इस अद्वितीय मौके पर, हम सभी को भगवान की कृपा और आशीर्वाद की कामना करते हैं।

Accherishtey
यह भी पढ़ें: दिल्ली के इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशन के पास दो गाड़ियों में टक्कर, 2 की मौत, 2 घायल

Related Articles

Back to top button