धर्म

Daily Panchang 11 March: मिथुन राशि में हो रहा है चंद्रमा का गोचर, जानें आज का पंचांग

Daily Panchang 11 March: राहुकाल और शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

दिनांक 11 मार्च 2022

दिन – शुक्रवार

विक्रम संवत – 2078

शक संवत – 1943

अयन – उत्तरायण

ऋतु – वसंत

मास – फाल्गुन

पक्ष – शुक्ल

तिथि – नवमी पूर्णरात्री तक

नक्षत्र – मृगशिरा 2:36 पी. एम तक तपश्चात आर्द्रा

योग – आयुष्मान 3:11 ए. एम मार्च 12 तत्पश्चात सौभाग्य

राहुकाल -11:20 ए.एम से 12:50 पी.एम तक

सूर्योदय – 06:53

सूर्यास्त – 18:47

चन्द्रोदय – 12:35 पी.एम.

चन्द्रोस्त – 2:41 ए.एम मार्च 12

दिशाशूल – पश्चिम

विजय मुहूर्त – 2:49 पी.एम. से 3:37 पी.एम

गोधूलि मुहूर्त – 6:35 पी.एम से 6:59 पी.एम

सायह्न सन्ध्या – 6:47 पी.एम से 8:00
पी.एम

दिन के चौघड़िया

6:53 से 8:22 चर – सामान्य
8:22 से 9:51 लाभ – उन्नति
9:51 से 11:20 अमृत- सर्वोत्तम
11:20 से 12:50 काल – हानि
12:50 से 2:19 शुभ – उत्तम
2:19 से 3:48 रोग- अमंगल
3:48 से 5:18 उद्वेग-अशुभ
5:18 से 6:47 चर – सामान्य

रात के चौघड़िया

6:47 से 8:18 रोग- अमंगल
8:18 से 9:48 काल – हानि
9:48 से 11:19 लाभ – उन्नति
11:19 से 12:49 उद्वेग-अशुभ
12:49 से 2:20 शुभ – उत्तम
2:20 से 3:50 अमृत- सर्वोत्तम
3:50 से 5:21 चर – सामान्य
5:21 से 6:52 रोग- अमंगल

व्रत पर्व विवरण– नवमी वृद्धितिथि

नौकरी की समस्या या घर में परेशानी

नौकरी की परेशानी हो तो ५ बत्तीवाली दिया मंगलवार और शनिवार को हनुमानजी की मूर्ति के सामने जलाएं | संकल्प करें कि हमारी ये समस्या है,प्रभु दूर हो जाये| जरुर दूर होगी |

घर में ज्यादा कष्ट और परेशानियाँ हो तो घर में पूजा की जगह प़र रोज ५ बत्ती वाली दिया जलाएं और संकल्प करें कि हमारी ये समस्या दूर हो जाये|
श्री सुरेशानंदजी, किशनगढ़(शाम) १९ दिसम् २०१०

यदि कोई शिशु रात को चौंकता है

यदि कोई शिशु रात को चौंकता है, उसे नींद नहीं आती, माँ को जगाता है, परेशान रहता है तो उसके सिरहाने के नीचे फिटकरी रख दें। इससे उसे बढ़िया नींद आयेगी।

अथर्व मंत्र विधि

कोई भी रोग हो, कोई भी परेशानी हो “ॐ अच्युताय नमः, ॐ गोविन्दाय नमः, ॐ अनंताय नमः नामभेशजात” (अच्युताय नमः – जो कभी चुय्त नहीं होते, गोविन्दाय नमः – जिनकी सत्ता से इन्द्रियाँ विचरण करती हैं, अनंताय नमः- जिसकी सत्ता से शक्ति, सामर्थ्य व कृपा का कोई अंत नहीं) इस मंत्र से अभिमंत्रित करके गंगा जल या तुलसी के पत्ते खाएं या दूसरों को दें तो रोगों व नीच विचारों में गिरने से बचता है l इसे बोलते हैं, अथर्व मंत्र विधि ……….. ऐसा रोज़ सुमिरन करें l
Hair Crown

यह भी पढ़े: आज का हिन्दू पंचांग 4 मार्च: जानें शुक्रवार के राहुकाल व दिशाशूल की स्थिति

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button