धर्म

आज घर-घर विराजेंगे बप्पा, भूल कर भी ना करें यह काम

शुक्रवार 10 सितंबर को यानी आज पूरे देश भर में गणेश चतुर्थी धूमधाम से मनाई जा रही है, बप्पा को घर लाने की तैयारियां शुरू हो गई हैं

शुक्रवार 10 सितंबर को यानी आज पूरे देश भर में गणेश चतुर्थी ( Ganesh Chaturthi) धूमधाम से मनाई जा रही है। आज सुबह से ही गणेश जी को घर लाने की तैयारियां शुरू हो गई हैं। बप्पा आज विराजमान होने के बाद, 19 सितंबर यानी 10 दिन बाद अनंत चतुदर्शी पर अलविदा कहेंगे।ऐसी मान्यता है कि गणेश जी का पूजन करने से मन की हर मनोकामना पूरी होती है।

गणपति स्थापना शुभ मुहूर्त

ganesh chaturthi 2021

गणेश चतुर्थी के पर्व पर पूजा का शुभ मुहूर्त 12 बजकर 18 मिनट पर अभिजीत मुहूर्त से आरंभ होगा, और रात 9 बजकर 57 मिनट तक पूजा करने का शुभ मुहूर्त रहेगा। आपको बता दें कि इस साल गणेश चतुर्थी पर भद्रा का साया नहीं होगा।

गणेश चतुर्थी पूजन विधि

ganesh chaturthi 2021

सबसे पहले गणेश चतुर्थी पर सुबह उठकर स्नान करें और फिर उसके बाद मिट्टी, सोना, चांदी या फिर गोबर से बप्पा की मूर्ति बनाकर उनकी पूजा करें। पूजा करते समय 21 मोदकों का भोग लगाएं। बप्पा की पूजा करते समय हरी दूर्वा के 21 अंकुर लेकर 2-2 करके गणेश जी के 10 नामों का जाप करें।

गणेश चतुर्थी पर भूल कर भी ना करें यह काम:

1.  बप्पा को पूजन में भूल कर भी तुलसी ना चढ़ाएं, पौराणिक कथा के मुताबिक, गणेश जी ने तुलसी जी का विवाह प्रस्ताव को ठुकरा दिया था। जिसके चलते तुलसी जी ने विघ्न विनाशक ( गणेश जी) को 2 शादियों का श्राप दिया था। तो वहीँ बप्पा ने तुलसी जी की  शादी एक राक्षस के साथ हो ऐसा श्राप दिया।

2. गणपति जी को विराजमान करने के बाद उन्हें कभी अकेला ना छोड़ें। हमेशा उनके पास कोई न कोई उपस्थित रहना चाहिए।

3. गणेश उत्सव या गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा के दर्शन नहीं करने चाहिए वरना व्यक्ति पाप का भागी बनता है।

4. गणेश चतुर्थी की पूजा में भूले से भी प्याज़ और लहसुन का इस्तेमाल ना करें।

5. इस बात का ध्यान रखें की गणेश जी की मूर्ति की जहां स्थापना करें, वहां पर हमेशा उजाला हो।

Tax Partner

ये भी पढ़े: DDMA का आदेश, इस साल भी सार्वजनिक स्थानों पे नहीं मना पाएंगे Ganesh Chaturthi

Rahil Sayed

राहिल सय्यद तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे हैं। इन्होंने दिल्ली से सम्बंधित बहुत सी महत्वपूर्ण घटनाओं और समाचारों को अपने लेखन में प्रकाशित किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button