दिल्लीधर्म

अब छठ पूजा नहीं मनाई जायेगी यमुना घाट पर, सरकार दे रही है ये सुविधा

छठ को देखते हुए ग्रीम ट्रिब्यूनल (NGT) के आदेश पर इस बार दिल्ली में छठ (Chhath2022) का पर्व यमुना के तट पर नहीं मनाया जाएगा

अधिकारियों का कहना है कि एनजीटी ने यमुना नदी में पूजन सामग्री डालने और पूजा करने पर अब रोक लगा दी है. इसी कड़ी में गणेश उत्सव और दुर्गा पूजा के दौरान मूर्तियों का विसर्जन अब नदियों में नहीं किया जाएगा। ये महीना त्योहारो का चल रहा है और छठ पूजा भी आने वाली है ग्रीम ट्रिब्यूनल (NGT) के आदेश पर दिल्ली में छठ (Chhath2022) का पर्व यमुना के तट पर नहीं मनाया जाएगा

इसकी जगह छठ पूजा वाले व्रती दिल्ली सरकार की तरफ से बनाए गए कृत्रिम तलाबों में सूर्य को अर्घ्य देंगे. आप को बता दें दिल्ली राजस्व विभाग में मंगलवार को हुई बैठक में इसका अंतिम फैसला लिया गया था इस बैठक में शामिल सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वो अपने-अपने इलाके में कृत्रिम तालाब की अच्छी तैयारी करें.और छठ व्रतियों को पूजा-पाठ में किसी भी तरह की बाधा नहीं आनी चाहिए.

अधिकारियों के द्वारा ये भी संदेश दिया है कि एनजीटी ने यमुना नदी में किसी भी तरह की पूजन सामग्री या कोई भी वस्तु डालने पर पूरी तरह से रोक लगा रखी है. बता दे इससे पहले भी गणेश उत्सव और दुर्गा पूजा के दौरान मूर्तियों का विसर्जन किसी भी नदियों में नहीं किया गया था इसकी जगह कृत्रिम तालाबों में पूरा इंतजाम किया गया है. बता दें छठ पूजा पर भी यह दिशा-निर्दश लागू रहेगा.

दिल्ली सरकार ने सभी छठ पूजा समितियों को आयोजन के लिये डीएम को एक अंडरटेकिंग देनी होगी कि जितनी भी पूजा सामग्री है कृत्रिम तालाबों में ही विसर्जित करे.अगर एमजीटी के आदेशों को तोड़ने की कोशिश की या नियम के खिलाफ कुछ भी किया तो उस पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा. छठ पूजा 30 और 31 अक्तूबर को ही होगी.

Hair Crown Salon

यह भी पढ़े: Diwali 2022: Diwali पर शुरू करें मोमबत्ती का बिजनेस होगा मोटा मुनाफा

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button