धर्म

जानिए नवरात्र के दूसरे दिन किस माता की करी जाती है पूजा और कैसे

आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने जा रहे हैं कि माँ ब्रह्मचारिणी को प्रसन्न करने के लिए किस तरह से और कैसे पूजा करनी चाहिए।

नवरात्रि का त्योहार पूरे ही देश भर में काफी ज्यादा उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाता है। यह त्योहार हिंदुओं के लिए काफी ज्यादा महत्त्व रखता है। इस साल चैत्र नवरात्रि 9 अप्रैल से शुरू हुए हैं जो कि 13 अप्रैल तक चलने वाले हैं। वहीं चैत्र नवरात्रि के दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा करी जाती है। इस दिन माता के भक्त काफी विधि विधान के साथ माता की पूजा अर्चना करते हैं और उनके लिए उपवास भी रखते हैं। आपको बता दें कि माँ ब्रह्मचारिणी को ध्यान, ज्ञान और बिरागी की आदि शक्ति भी कहा जाता है। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने जा रहे हैं कि माँ ब्रह्मचारिणी को प्रसन्न करने के लिए किस तरह से और कैसे पूजा करनी चाहिए।

 

माना जाता है कि माँ ब्रह्मचारिणी का जन्म ब्रह्मा जी के कमंडल से हुआ था। जिसका कारण इनका नाम ब्रह्मचारिणी पड़ा। कहा जाता है कि इनकी पूजा करने से भगवान शिव भी प्रसन्न होते हैं।

 

आपको बता दें कि माँ ब्रह्मचारिणी के दायें हाथ में जप की माला और दूसरे बाएं हाथ में कमण्डल होता है। जो भी भक्त माता की पूजा करता है उनको शक्ति, त्याग, संयम और बैरागी की अनुभूति होती है।

वैसे तो माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा हर भक्त को करनी चाहिए, लेकिन मिथुन और कन्या राशि वाले लोगों के लिए माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा करना विशेष रूप से फलदायी हो सकता है।

आज के दिन जो भी भक्त माँ की पूजा करें ये वह एक चीज़ का ध्यान रखें कि भोग लगाते समय सफेद चीजों का उपयोग करें। और गुलाबी या फिर सफेद रंग के हल्के कपड़े पहने।

Related Articles

Back to top button