धर्म

जाने आखिर क्यों माना जाता है नारियल को शुभ ; क्या है महत्व

हमारे हिंदू धर्म में पूजा पाठ के समय कुछ रहे या ना रहे नारियल जरूर से जरूर रहता है. पूजा के समान में नारियल को रखना एक आदत सी बन गई है.

हमारे हिंदू धर्म में पूजा पाठ के समय कुछ रहे या ना रहे नारियल जरूर से जरूर रहता है. पूजा के समान में नारियल को रखना एक आदत सी बन गई है. इसके बिना पूजा ना के बराबर संभव है. किसी भी शुभ काम में नारियल को सबसे पहले रखा जाता है कहा जाता है कि यदि नारियल किसी भी पूजा – पाठ में ना हो तो वह पूजा पाठ शुभ नहीं माना जाता. और तो और नारियल पूजा के अलावा लोगो के शारीर के लिए भी काफी उपयोगी है.

नारियल का पानी सबसे ज्यादा लाभदायक है बड़े से बड़ा रोग नारियल पानी से ख़त्म हो जाता है. यहाँ तक की नारियल के छिलके से रस्सी बनाया जाता है. एक नारियल बहुत प्रकार के काम करता है. इन सब को देखते हुए आज हम आपको बताएंगे कि नारियल के बहुत सारे लाभ है इस लेख के माध्यम से जानते हैं क्या-क्या लाभ है. शास्त्रों के अनुसार बताया जाता है कि नारियल के प्रयोग करने से कई प्रकार के रोग खत्म हो जाते हैं एवं नेगेटिव चीज़े समाप्त हो जाती है. नारियल के छिड़काव से घर से नकारात्मक ऊर्जा बाहर चल जाती है.

कथा के अनुसार नारियल में त्रिदेव ब्रह्मा, विष्णु, महेश तीनों में भगवान का वास होता है. और यह भी कहा गया है कि जब महालक्ष्मी पृथ्वी पर आई थी तब नारियल का पेड़ और कामधेनु गाय दोनों को साथ में लेकर आई थी. इसलिए नारियल को कल्पवृक्ष भी कहा जाता है. पूजा पाठ में भगवान को नारियल चढ़ाने से भगवान सभी कस्ट से दूर कर देते हैं. साथ ही हमारी सारी मनोकामनाएं पूरी होती है. नारियल बहुत ही शुद्ध पानी है. किसी भी तरह के शुभ काम में नारियल के पानी से छिडकाव किया जाता है.नारियल का पानी  पूजा पाठ में ही नहीं बल्कि मनुष्य के रोगों  भी मनुष्य को लड़ने में मदद करता है नारियल बहुत ही शुद्ध पानी है और इसे इसे काफी ठंड भी कहा जाता है.

Accherishtey

यह भी पढ़े : तिलक लगाने से होंगे तनाव से दूर; एकाग्र होता है मन\

Related Articles

Back to top button