धर्म

शुभ पंचांग: जानिए 10 दिसंबर का पंचांग, शुभ मुहूर्त और राहुकाल

शुभ पंचांग: राहुकाल और शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

दिनांक – 10 दिसम्बर 2021

दिन – शुक्रवार

विक्रम संवत – 2078

शक संवत -1943

अयन – दक्षिणायन

ऋतु – हेमंत

मास – मार्ग शीर्ष मास

पक्ष – शुक्ल

तिथि – सप्तमी शाम 07:09 तक तत्पश्चात अष्टमी

नक्षत्र – शतभिषा रात्रि 09:48 तक तत्पश्चात पूर्वभाद्रपद

योग – हर्षण सुबह 08:22 तक तत्पश्चात वज्र

राहुकाल – सुबह 11:10 से दोपहर 12:32 तक

सूर्योदय – 07:06

सूर्यास्त – 17:56

दिशाशूल – पश्चिम दिशा में

व्रत पर्व विवरण

विशेष – सप्तमी को ताड़ का फल खाने से रोग बढ़ता है तथा शरीर का नाश होता है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

स्वास्थवर्धक विशेष प्रयोग

यौवनदाता : १० – १५ ग्राम गाय के घी के साथ २५ ग्राम आँवले का चूर्ण, ५ ग्राम शहद तथा १० ग्राम तिल का तेल मिलाकर प्रात: सेवन करने से दीर्घकाल तक युवावस्था बनी रहती है |

यादशक्ति बढ़ानेे हेतु : प्रतिदिन १५ से २० मि.ली. तुलसी रस व एक चम्मच च्यवनप्राश का थोडा-सा घोल बना के सारस्वत्य मंत्र अथवा गुरुमंत्र जपकर पियें | ४० दिन में चमत्कारिक फायदा होगा |

वीर्यवर्धक योग : ४ – ५ खजूर रात को पानी में भिगो के रखें | सुबह १ चम्मच मक्खन, १ इलायची व थोडा-सा जायफल पानी में घिसकर उसमें मिला के खाली पेट लें | यह वीर्यवर्धक प्रयोग है |

कलह-क्लेश, रोग व दुर्बलता मिटाने का उपाय
जिसको घर में कलह-क्लेश मिटाना हो, रोग या शारीरिक दुर्बलता मिटाना हो वह इस चौपाई की पुनरावृत्ति किया करे.

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौ पवन-कुमार|
बल बुधि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार ||
ऋषिप्रसाद – दिसम्बर 2020 से

मुँह से बदबू
नमक और काली मिर्च मिलाके कभी – कभी मंजन करे तो मुँह की बदबू चली जायेगी.

Aadhya technology

 

यह भी पढ़े: सऊदी अरब सरकार ने दी उमराह न करने वाले लोगों को तवाफ़ करने की इजाज़त

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button