धर्म

इस बार का करवाचौथ होगा बेहद ख़ास, जानें शुभ मुहूर्त

हिंदूस्तान मे औरते अपने पति की लंबी आयु के लिए करवाचौथ का व्रत रखती हैं। हिंदू पंचाग के अनुसार , हर साल कार्तिक महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ व्रत रखा जाता है।

भारत समेत देश के कयी हिस्सों में सुहागन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए करवाचौथ का व्रत रखती हैं। हिंदू पंचाग के अनुसार , हर साल कार्तिक महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ व्रत रखा जाता है।

दरअसल चतुर्थी तिथि में चंद्रमा का उदय होना काफी महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इस व्रत में चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद ही पति के हाथों पानी पिया जाता है। इस विधि के बाद ही इस व्रत को पूर्ण माना जाता है।

हिंदू परम्परा के अनुसार करवाचौथ के दिन माता पार्वती , भगवान शिव, गणेश जी,  भगवान कार्तिकेय और चंद्रमा की पूजा करने का विधान है। करवा चौथ का व्रत पूरी तरह से निर्जला रखा जाता है।

करवाचौथ 2021 की तिथी

karwa chauth

हिन्दी पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि का प्रारंभ 24 अक्टूबर के दिन रविवार को प्रात: 03 बजकर 01 मिनट पर है।  वहीं चतुर्थी तिथि का समापन अगले दिन 25 अक्टूबर दिन सोमवार को प्रात: 05 बजकर 43 मिनट पर हो जाएगा।

पूजा का मुहूर्त

muharat

करवाचौथ पूजा का मुहूर्त 01 घंटा 17 मिनट का है। आप करवा चौथ वाले दिन शाम को 05 बजकर 43 मिनट से  लेकर शाम 06 बजकर 59 मिनट के बीच में चौथ माता यानी माता पार्वती, भगवान शिव, गणेश जी, भगवान कार्तिकेय का विधिविधान से पूजा कर लें।

चन्द्र अर्घ्य का समय

ardhey

इस वर्ष करवा चौथ के दिन चंद्रमा के उदय होने का समय रात 08 बजकर 07 मिनट पर है। उसके बाद आप 08:07 बजे चंद्रमा की पूजा करें।

ऐसे करे पूजा

karwa

उस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान कर लें। स्नान के बाद घर के मंदिर में साफ-सफाई कर ज्योत जलाएं। देवी-देवताओं की नियम के साथ पूजा-अर्चना करें।

 

Tax Partner

ये भी पढ़े: नवरात्रों में देवी मां को खुश करनें के लिए करें यह 3 काम

Aanchal Mittal

आँचल तेज़ तर्रार न्यूज़ में रिपोर्टर व कंटेंट राइटर है। इन्होने दिल्ली के सोशल व प्रमुख घटनाओ पर जाकर रिपोर्टिंग की है व अपनी कवरेज में शामिल किया है। आम आदमी की समस्याओ को इन्होने अपने सवालो द्वारा पूछताछ करके चैनल तक पहुँचाया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button