धर्म

आज का हिन्दू पंचांग 26 मार्च: नवमी की तिथि है आज, जानें नक्षत्र और राहुकाल

आज का हिन्दू पंचांग 26 मार्च: राहुकाल और शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

दिनांक – 26 मार्च 2022

दिन – शनिवार

विक्रम संवत – 2078

शक संवत – 1943

अयन – उत्तरायण

ऋतु – वसंत

मास – चैत्र

पक्ष – कृष्ण

तिथि – नवमी रात्रि 08:01 तक तपश्चात दशमी

नक्षत्र – पूर्वाषाढ़ा अपरान्ह 02:47 तक तपश्चात उत्तराषाढ़ा

योग – परिघ रात्रि 10:59 तक तत्पश्चात शिव

राहुकाल – सुबह 9:42 से 11:14 तक

सूर्योदय – 06:38

सूर्यास्त – 06:53

चन्द्रोदय – रात्रि 03:13

दिशाशूल – पूर्व दिशा में

विजय मुहूर्त – अपरान्ह 2:48 से 3:37 तक

अमृत काल – सुबह 10:15 से 11:46 तक

गोधूलि मुहूर्त – शाम 6:41 से 7:05 तक

सायह्न सन्ध्या – शाम 6:53 से रात्रि 8:03 तक

ब्रह्म मुहूर्त– सुबह 05:04 से 05:51 तक

निशिता मुहूर्त – रात्रि 12.22 से 01:08 तक

विशेष – नवमी को लौकी खाना गोमांस के समान त्याज्य है। बिल्वपत्र न तोड़ें ।आँवले का सेवन नहीं करना चाहिए।

(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

दिन का चौघड़िया

काल – हानि 06:38 से 08:10
शुभ – उत्तम 08:10 से 09:42
रोग – अमंगल 09:42 से 11:14
उद्वेग – अशुभ 11:14 से 12:45
चर – सामान्य 12:45 से 02:17
लाभ – उन्नति 02:17 से 03:49
अमृत – सर्वोत्तम 03:49 से 05:21
काल – हानि 05:21 से 06:53

रात्रि का चौघड़िया

लाभ – उन्नति 06:53 से 08:21
उद्वेग – अशुभ 08:21 से 09:49
शुभ – उत्तम 09:49 से 11:17
अमृत – सर्वोत्तम 11:17 से 12:45
चर – सामान्य 12:45 से 02:13
रोग – अमंगल 02:13 से 03:41
काल – हानि 03:41 से 05:09
लाभ – उन्नति 05:09 से 06:37

शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष का दोनों हाथों से स्पर्श करते हुए ‘ॐ नमः शिवाय।’ का 108 बार जप करने से दुःख, कठिनाई एवं ग्रहदोषों का प्रभाव शांत हो जाता है। (ब्रह्म पुराण’)
हर शनिवार को पीपल की जड़ में जल चढ़ाने और दीपक जलाने से अनेक प्रकार के कष्टों का निवारण होता है ।(पद्म पुराण)

कोई आपको शत्रु मान के परेशान करता हो.. तो …

कोई आपको शत्रु मान के परेशान करता हो तो प्रतिदिन प्रात:काल पीपल के नीचे वृक्ष के दक्षिण की ओर अरंडी के तेल का दीपक लगायें तथा थोड़ी देर गुरुमंत्र या भगवन्नाम जपें और उस व्यक्ति को भगवान सद्बुद्धि दें तथा मेरा, उसका-सबका मंगल हो ऐसी प्रार्थना करें | कुछ दिनों तक ऐसा करने से शत्रु शनै: शनै : दब जाते हैं व शत्रु पीड़ा धीरे-धीरे दूर हो जाती है |

Hair Crown

 

यह भी पढ़े: New Year 2022: नए साल से पहले रखें अपने पर्स में ये ख़ास चीज, नहीं होगी पैसों की कमी

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button