धर्म

आज का हिन्दू पंचांग 16 अप्रैल: इस दिन है चैत्र माह शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा

आज का हिन्दू पंचांग 16 अप्रैल: राहुकाल और शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

दिनांक 16 अप्रैल 2022

दिन – शनिवार

विक्रम संवत – 2079

शक संवत – 1944

अयन – उत्तरायण

ऋतु – वसंत

मास – चैत्र

पक्ष – शुक्ल

तिथि – पूर्णिमा रात्रि 12:24 तक तत्पश्चात प्रतिपदा

नक्षत्र – हस्त सुबह 08:40 तक तत्पश्चात चित्रा

योग – हर्षण रात्रि 02:45 तक तत्पश्चात वज्र

राहुकाल – सुबह 09:29 से दोपहर 11:04 तक

सूर्योदय – 06:19

सूर्यास्त – 07:01

दिशाशूल – पूर्व दिशा में

ब्रह्म मुहूर्त– प्रातः 04:48 से 05:33 तक

निशिता मुहूर्त – रात्रि 12.17 से 01:02 तक

व्रत पर्व विवरण – श्री हनुमान जन्मोत्सव, चैत्र पूर्णिमा, वैशाख स्नान प्रारम्भ

विशेष – पूर्णिमा के दिन तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38), पूर्णिमा के दिन बेल पत्ता तोड़ना निषिद्ध ।

पूर्णिमा के दिन जो मनुष्य तुलसी का पत्ता तोड़ता है, वह मानो भगवान श्रीहरि का मस्तक छेदन करता है।
(ब्रह्मवैवर्त पुराण, प्रकृति खंडः 21.50.51)

श्री हनुमान जन्मोत्सव 16 अप्रैल

धर्म ग्रंथों में हनुमानजी के 12 नाम बताए गए हैं, जिनके द्वारा उनकी स्तुति की जाती है। इन 12 नामों का जो रात में सोने से पहले व सुबह उठने पर अथवा यात्रा प्रारंभ करने से पहले पाठ करता है, उसके सभी भय दूर हो जाते हैं और उसे अपने जीवन में सभी सुख प्राप्त होते हैं। 12 नाम इस प्रकार है…
हनुमान ,लक्ष्मणप्राणदाता ,दशग्रीवदर्पहा, रामेष्ट, फाल्गुनसुख, पिंगाक्ष, अमितविक्रम, उदधिक्रमण, अंजनीसुत, वायुपुत्र, महाबल, सीताशोकविनाशन ।

पुण्यफल की पूर्णता हेतु : चैत्री पूर्णिमा – 16 अप्रैल

इस दिन दान-पुण्य, तीर्थस्नान, शास्त्र-श्रवण करने से पूर्ण फल मिलता है ।
इस पुर्णिमा में चन्द्रमा की प्रसन्नता के लिए कच्चे अन्नसहित जल से भरा हुआ घट दान करने का विधान है ।

वैशाख स्नानारम्भ 16 अप्रैल से ……

वैशाख (माधव) मास में जो भक्तिपूर्वक दान, जप, हवन और स्नान आदि शुभ कर्म किये जाते हैं, उनका पुण्य अक्षय तथा सौ करोड़ गुना अधिक होता है । (पद्म पुराण)

वास्तु शास्त्र

हनुमानजी बाल ब्रहमचारी है इसलिए उनकी तस्वीर बेडरूम में नहीं लगानी चाहिए।
हनुमानजी की तस्वीर घर या दुकान में दक्षिण दिशा की ओर लगाना सबसे अच्छा माना जाता है।
घर मे पंचमुखी, पर्वत उठाते हुए या राम भजन करते हुए हनुमानजी की तस्वीर लगाना सबसे अच्छा होता है। इससे घर के सभी दोष खत्म हो जाते हैं।

उत्तर दिशा में हनुमानजी की तस्वीर लगाने पर दक्षिण दिशा से आने वाली प्रत्येक नकारात्मक शक्ति को हनुमानजी रोक देते हैं। इससे घर में सुख और समृद्धि बनी रहती है।
हनुमानजी की तस्वीर पर सिंदूर लगाने से सभी मनोकामनाएं जरुर पूरी होती हैं ।

Hair Crown

 

यह भी पढ़े:  हिंदू व्रत में खाए जाने वाला सैंधा नमक कहा से आता है?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button