धर्म

आज का हिन्दू पंचांग 12 जुलाई: जानें आज कब से लग रही है त्रयोदशी और चतुर्दशी तिथि

आज का हिन्दू पंचांग 12 जुलाई: राहुकाल और शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

दिनांक – 12 जुलाई 2022

दिन – मंगलवार

विक्रम संवत – 2079

शक संवत – 1944

अयन – दक्षिणायन

ऋतु – वर्षा

मास – आषाढ़

पक्ष – शुक्ल

तिथि – त्रयोदशी सुबह 07:46 तक तत्पश्चात चतुर्दशी

नक्षत्र – मूल रात्रि 02:21 तक तत्पश्चात पूर्वाषाढ़ा

योग – ब्रह्म शाम 04:59 तक तत्पश्चात इन्द्र

राहु काल – शाम 04:07 से 05:48 तक

सूर्योदय – 06:03

सूर्यास्त – 07:29

दिशा शूल – उत्तर दिशा में

ब्रह्म मुहूर्त – प्रातः 04:37 से 05:20 तक

निशिता मुहूर्त – रात्रि 12:24 से 01:07 तक

व्रत पर्व विवरण –

विशेष – त्रयोदशी को बैंगन खाने से पुत्र का नाश होता है । (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
चतुर्दशी के दिन तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है ।

(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)

शिष्यों का अनुपम पर्व – गुरुपूर्णिमा

गुरुपूर्णिमा व्रत और तपस्या का दिन है । उस दिन साधक को चाहिये कि उपवास करें या दूध, फल अथवा अल्पाहार लें, गुरु के द्वार जाकर गुरुदर्शन, गुरुसेवा और गुरु – सत्संग का श्रवण करें ।

इस दिन गुरुदेव की पूजा करने से वर्षभर की पूर्णिमाओं के दिन किये हुए सत्कर्मों के पुण्यों का फल मिलता है ।

आज सब लोग अगर गुरु को नहलाने लग जायें, तिलक करने लग जायें, हार पहनाने लग जायें तो यह संभव नहीं है । लेकिन षोडशोपचार की पूजा से भी अधिक फल देने वाली मानस पूजा करने से तो भाई ! स्वयं गुरू भी नही रोक सकते । मानस पूजा का अधिकार तो सबके पास है । शिष्य मन – ही- मन अपने दिव्य भावों के अनुसार अपने सद्गुरुदेव का पूजन करके गुरुपूर्णिमा का पावन पर्व मना सकता है । – पूज्य बापूजी

क्षमा माँगने का सही ढंग

लोग बोलते हैं : ‘जाने – अनजाने में मुझसे कुछ गलती या भूलचूक हो गयी हो तो माफ़ कर देना !’

यह माफी लेने कि सच्चाई नहीं है, बेईमानी है । यह माफी माँगता है कि मजाक उड़ाता है ? ‘भूलचूक हो गयी हो तो ….’ नहीं । कहना चाहिए : ‘भूल हो गयी है, क्षमा माँगने योग्य नहीं हूँ लेकिन आपकी उदारता पर भरोसा है, आप मुझे क्षमा कर दीजिये !’ यह सज्जनता है ।

ग्रहबाधा व वास्तुदोष दूर करने का अचूक उपाय

आजकल वास्तुदोष-निवारण के नाम पर तीन टांग के कछुआ, मेंढक की मूर्ति घरों में रखने का रिवाज चल पड़ा है । यह तथाकथित फेंगशुई चीनी गृहसज्जा करना है । यदि घर पर किसी भी प्रकार का वास्तुदोष है तो एक देशी गाय रख लें, समस्त वास्तुदोष दूर हो जायेंगे । यदि गाय पालना सम्भव न हो तो घर के आँगन में सवत्सा (बछड़ेवाली) गाय का चित्र लगा लें और घर में गोमूत्र या गोमूत्र अर्क का छिड़काव करें ।

शनि, राहू-केतु आदि ग्रहों के दोष-निवारण के लिए प्रत्येक मंगलवार या शनिवार को अपने हाथ से आटे की लोई गुड़सहित प्रेमपूर्वक किसी नंदी अथवा गाय को खिलाएं । कैसी भी ग्रहबाधा हो, दूर हो जायेगी ।

Insta loan services

यह भी पढ़े: इस एक्‍सप्रेस-वे से 24 घंटे मे नहीं सिर्फ 12 घंटे में कर सकेंगे दिल्ली से मुंबई का सफर

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button