धर्म

आज का हिन्दू पंचांग 4 मार्च: जानें शुक्रवार के राहुकाल व दिशाशूल की स्थिति

आज का हिन्दू पंचांग 4 मार्च: राहुकाल और शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

दिनांक – 04 मार्च 2022

दिन – शुक्रवार

विक्रम संवत – 2078

शक संवत -1943

अयन – उत्तरायण

ऋतु – वसंत ऋतु

मास – फाल्गु

पक्ष – शुक्ल

तिथि – द्वितीया रात्रि 08:45 तक तत्पश्चात तृतीया

नक्षत्र – उत्तर भाद्रपद 05 मार्च रात्रि 01:52 तक तत्पश्चात रेवती

योग – शुभ 05 मार्च रात्रि 01:45 तक तत्पश्चात शुक्ल

राहुकाल – सुबह 11:22 से दोपहर 12:51 तक

सूर्योदय – 06:58

सूर्यास्त – 18:42

दिशाशूल – पश्चिम दिशा में

व्रत पर्व विवरण – चंद्र दर्शन, श्री रामकृष्ण परमहंस जयंती (ति.अ.)

विशेष – द्वितीया को बृहती (छोटा बैगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)

ह्रदय के लिए हितकर पेय

रात को भिगोये हुए ४ बादाम सुबह छिलका उतारकर १० तुलसी पत्तों और ४ काली मिर्च के साथ अच्छी तरह पीस लें | फिर आधा कप पानी में इनका घोल बना के पीने से विभिन्न प्रकार के ह्रदयरोगों में लाभ होता है | इससे मस्तिष्क को पोषण मिलता है व् रक्त की वृद्धि भी होती हैं |

दाँतों की मजबूती के लिए

देशी गाय का गौमूत्र ३-४ बार कपड़े से छान कर कोई मुंह में भरे और अच्छी तरह कुल्ला करें फिर थूक दे … फिर भरे …ऐसा ४-५ बार करें ….फिर साफ पानी से मुंह धो लें |

उस आदमी को कभी dentist के पास नहीं जाना पड़ेगा | बुढ़ापे में भी दांत मजबूत रहेंगे | चौखट नहीं लगवानी पड़ेगी |

लक्ष्मीप्राप्ति व घर में सुख-शांति हेतु

तुलसी-गमले की प्रतिदिन एक प्रदक्षिणा करने से लक्ष्मीप्राप्ति में सहायता मिलती है |
तुलसी के थोड़े पत्ते पानी में डाल के उसे सामने रखकर भगवद्गीता का पाठ करे | फिर घर के सभी लोग मिल के भगवन्नाम – कीर्तन करके हास्य – प्रयोग करे और वह पवित्र जल सब लोग ग्रहण करे | यह प्रयोग करने से घर के झगड़े मिटते है, शराबी की शराब छुटती है और घर में सुख शांति का वास होता है |
Hair Crown

यह भी पढ़े:आज का हिन्दू पंचांग 14 फरवरी: सोम प्रदोष व्रत, देखें शुभ मुहूर्त कब से कब तक

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button