धर्म

Aaj ka Panchang 22 November: आज कार्तिक मास की दशमी तिथि, जानें शुभ मुहूर्त

Aaj ka Panchang 22 November: राहुकाल और शुभमुहूर्त के साथ जानें कैसे लगेगा कार्यस्थल पर मन और उन्नतिकारक कुंजियाँ

दिनांक – 22 नवम्बर 2023*
दिन – बुधवार*
विक्रम संवत् – 2080*
अयन – दक्षिणायन*
ऋतु – हेमंत*
मास – कार्तिक*
पक्ष – शुक्ल*
तिथि – दशमी रात्रि 11:03 तक तत्पश्चात एकादशी*
नक्षत्र – पूर्वभाद्रपद रात्रि 08:01 तक तत्पश्चात उत्तरभाद्रपद*
योग – हर्षण शाम 06:37 तक तत्पश्चात वज्र*
राहु काल – दोपहर 12:26 से 01:48 तक*
सूर्योदय – 06:57*
सूर्स्त – 05:54*
दिशा शूल – उत्तर दिशा में*
ब्राह्ममुहूर्त – प्रातः 05:13 से 06:05 तक*
निशिता मुहूर्त – रात्रि 12:00 से 12:52 तक*
व्रत पर्व विवरण -*
विशेष – दशमी को कलंबी शाक त्याज्य है । (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*

दवउठी-प्रबोधिनी एकादशी – 23 नवम्बर 2023

एकादशी 22 नवम्बर रात्रि 11:03 से 23 नवम्बर रात्रि 09:01 तक
*व्रत उपवास 23 नवम्बर को रखा जायेगा ।*

देवउठी एकादशी के दिन भगवान विष्णु को इस मंत्र से उठाना चाहिए
*उतिष्ठ-उतिष्ठ गोविन्द, उतिष्ठ गरुड़ध्वज l*
*उतिष्ठ कमलकांत, त्रैलोक्यं मंगलम कुरु l l*

इस एकादशी के दिन संध्या के समय कपूर से भगवान की आरती करने से आजीवन अकाल-मृत्यु से रक्षा होती है, एक्सीडेंट, आदि उत्पातों से रक्षा होती है l*

पूज्य बापूजी Vadodara-9th Nov. 2011*

महापातकों का नाशक भीष्मपंचक व्रत : 23 नवम्बर से 27 नवम्बर 2023 तक*

कार्तिक शुक्ल एकादशी से पूनम तक का व्रत ‘भीष्मपंचक व्रत’ कहलाता है । जो इस व्रत का पालन करता है, उसके द्वारा सब प्रकार के शुभ कृत्यों का पालन हो जाता है । यह महापुण्यमय व्रत महापातकों का नाश करनेवाला है । निःसंतान व्यक्ति पत्नीसहित इस प्रकार का व्रत करे तो उसे संतान की प्राप्ति होती है ।*

इन पाँच दिनों में निम्न मंत्र से भीष्मजी के लिए तर्पण करना चाहिए :*

*सत्यव्रताय शुचये गांगेयाय महात्मने ।*
*भीष्मायैतद् ददाम्यर्घ्यमाजन्मब्रह्मचारिणे ।।*

‘आजन्म ब्रह्मचर्य का पालन करनेवाले परम पवित्र, सत्य-व्रतपरायण गंगानंदन महात्मा भीष्म को मैं यह अर्घ्य देता हूँ ।’*
*(स्कंद पुराण, वैष्णव खंड, कार्तिक माहात्म्य)*

अर्घ्य के जल में थोड़ा-सा कुमकुम, पुष्प और पंचामृत (गाय का दूध, दही, घी, शहद और शक्कर) मिला हो तो अच्छा है, नहीं तो जैसे भी दे सकें । ‘मेरा ब्रह्मचर्य दृढ़ रहे, संयम दृढ़ रहे, मैं कामविकार से बचूँ…’ – ऐसी प्रार्थना करें ।*

एकादशी व्रत के लाभ

एकादशी व्रत के पुण्य के समान और कोई पुण्य नहीं है ।*

जो पुण्य सूर्यग्रहण में दान से होता है, उससे कई गुना अधिक पुण्य एकादशी के व्रत से होता है ।*

जो पुण्य गौ-दान, सुवर्ण-दान, अश्वमेघ यज्ञ से होता है, उससे अधिक पुण्य एकादशी के व्रत से होता है ।*

एकादशी करनेवालों के पितर नीच योनि से मुक्त होते हैं और अपने परिवारवालों पर प्रसन्नता बरसाते हैं । इसलिए यह व्रत करने वालों के घर में सुख-शांति बनी रहती है ।*

धन-धान्य, पुत्रादि की वृद्धि होती है ।*

कीर्ति बढ़ती है, श्रद्धा-भक्ति बढ़ती है, जिससे जीवन रसमय बनता है ।*

परमात्मा की प्रसन्नता प्राप्त होती है । पूर्वकाल में राजा नहुष, अंबरीष, राजा गाधी आदि जिन्होंने भी एकादशी का व्रत किया, उन्हें इस पृथ्वी का समस्त ऐश्वर्य प्राप्त हुआ । भगवान शिवजी ने नारद से कहा है : एकादशी का व्रत करने से मनुष्य के सात जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं, इसमे कोई संदेह नहीं है । एकादशी के दिन किये हुए व्रत, गौ-दान आदि का अनंत गुना पुण्य होता है ।*Accherishtey
यह भी पढ़ें: दिल्ली के इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशन के पास दो गाड़ियों में टक्कर, 2 की मौत, 2 घायल

Related Articles

Back to top button