Cricketखेल

रणजी फाइनल: अगली पारी में नहीं चला पृथ्वी शॉ का बल्ला

अगली पारी में विदर्भ के तेज गेंदबाज यश ठाकुर ने पृथ्वी शॉ को क्लीन बोल्ड कर दिया. 133.4 प्रति घंटे की रफ्तार से ठाकुर की गेंद सीधे उनके बल्ले और कुशन के बीच स्टंप पर लगी.

मुंबई के बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने रणजी फाइनल में विदर्भ के खिलाफ दूसरी पारी में बल्लेबाजी नहीं की. पृथ्वी शॉ रणजी ट्रॉफी की लगातार छठी पारी में लड़खड़ा गए हैं। इसके बाद की पारी में शॉ के बल्ले से सिर्फ 11 रन निकले. वह यश ठाकुर तेज गेंद पर बेदाग बोल्ड हो गए। पृथ्वी ने 18 गेंदों में 11 रनों की पारी खेली. उनके बल्ले से सिर्फ एक चौका निकला. पृथ्वी मुख्य पारी में 50 साल चूक गए थे.

26 के स्कोर पर मुंबई ने मुख्य विकेट खोया

मुंबई के वानखेड़े एरेना में खेले जा रहे रणजी प्राइज मैच में मुंबई की टीम ड्राइविंग सीट पर है. पहली पारी में 224 रन बनाने के बाद मुंबई को पहली पारी के आधार पर 100 से ज्यादा की बढ़त हासिल हुई। विदर्भ की टीम पहली पारी में 105 रन पर ऑलआउट हो गई. अगली बारी में अच्छी श्रेणी लेने के इरादे से उतरी मुंबई की टीम और उस टाइम फिर मुंबई टीम को बड़ा झटका लगा, मुंबई ने 26 के रनो पर पृथ्वी के रूप में अपना उन्होने अपना यादगार विकेट खो दिया था। पृथ्वी का विकेट यश ठाकुर ने लिया।

पृथ्वी एक अच्छी लेंथ गेंद पर आउट हुए

पृथ्वी शॉ जिस गेंद पर आउट हुए वो अच्छी लेंथ की गेंद थी. यश ठाकुर ने अपनी गेंद 133.4 KM प्रति घंटे की रफ्तार से डाली थी. शॉ ने उस गेंद को बचाने की कोशिश की, हालांकि गेंद कुशन और बल्ले के बीच से होकर स्टंप्स पर जा लगी. आपको बता दें कि इस मैच में पृथ्वी शॉ ने पहली बारी में 46 रन लिए थे. वह 50 वर्ष चूक गये थे। पृथ्वी शॉ ने छत्तीसगढ़ के खिलाफ रणजी पुरस्कार में पहला शतक लगाया। तब से लेकर आज तक पृथ्वी के बल्ले से कोई 50 साल नहीं निकला है.

यह भी पढ़ें:  इंग्लैंड भाग्यशाली था कि विराट कोहली उपलब्ध नहीं थे

Related Articles

Back to top button