ट्रेवल

कितना भी हॉर्न बजाले शोर मचाले…परन्तु इस रेलवे स्टेशन से बाहर नहीं आवाज

यूपी की राजधानी लखनऊ का चारबाग रेलवे स्टेशन देश के बेहद शानदार स्टेशनों में मौजूद है। ऊपर से दिख रहे शतरंज की बिसात जैसा

यूपी की राजधानी लखनऊ का चारबाग रेलवे स्टेशन देश के बेहद शानदार स्टेशनों में मौजूद है। ऊपर से दिख रहे शतरंज की बिसात जैसा दिखने वाले इस स्टेशन को पूर्व फारसी भाषा में चहार बाग बोलै जाता है।

 

कितना भी बजा लें हॉर्न कितना भी कर लें शोर…यूपी के इस रेलवे स्टेशन से बाहर नहीं जाती ट्रेनों की आवाज!

नवाब आसफुद्दौला के मनपसंद ऐशबाग के प्रकार चारबाग भी उन्हें बेहद अच्छा अलग था, परन्तु उस समय विदेशियों ने अवध पर कब्जा कर लिया था और नवाबों को यहां से भगा दिया गया था। तब अंग्रेजों से चारबाग रेलवे स्टेशन का निर्माण आरम्भ हुआ । चलिए आपको इस स्टेशन के विषय में मजेदार बातें बताते हैं।

अंग्रेजों ने रखी थी रेलवे स्टेशन की नींव

लखनऊ के मुनव्वर बाग के उत्तर में चारबाग की नीम पड़ी थी। जब नवाबी दौर समाप्त हुआ तो इस समय की रौनक भी मानों फीकी सी पड़ गई थी। उस दौरान विदेशी सरकार ने एक लाजवाब स्टेशन की योजना बनाई।

70 लाख की आई थी लागत

उस समय के मशहूर वास्तुकार जैकब ने इस बिल्डिंग का एक मैप तैयार किया था। चारबाग स्टेशन का निर्माण हो जाने के बाद उस वक्त 70 लाख रुपए खर्च हो गए थे। राजपूत शैली में निर्मित इस भवन में आपको कुछ चीजें दिखाई पड़ेंगी, जैसे इस इमारत के छोटे-बड़े छतरीनुमा वाले गुंबद मिलकर शतरंज की बिछी बिसात का नमूना दिखाते हैं।

बाहर नहीं जाती ट्रेनों की आवाजें

अपनी जिन खूबसूरती की वजह चारबाग स्टेशन को देश के खास स्टेशनों में गिना जाता है। वह है यहां के ट्रेनों की एवं उनका बाहर ना आना। ऐसा बोलै जाता है कि जितने शोरशराबे के साथ रेल प्लेटफॉर्म पर आती है, उसकी आवाज स्टेशन के बाहर नहीं आती है। जबकि चारबाग के बाहर के परिसर और प्लेटफॉर्म की दूरी अधिक नहीं है।

यही हुई थी गांधी-नेहरू की पहली मुलाकात

देश के पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की मुलाकात पूर्व यही बापू के समीप हुई थी। महात्मा गांधी 26 दिसंबर 1916 को पूर्व बार लखनऊ में आए थे। मौका था कांग्रेस के अधिवेशन का, इस समय वो पांच दिन तक शहर में रहे थे। जिस स्थान पर गांधी जी की मुलाकात नेहरू से हुई थी, वहां आजकल स्टेशन की पार्किंग है, मिलन की निशानी के तौर पर यहां पत्थर भी लगा है।

Accherishtey
यह भी पढ़ें: दिल्ली के इंद्रप्रस्थ मेट्रो स्टेशन के पास दो गाड़ियों में टक्कर, 2 की मौत, 2 घायल

 

Related Articles

Back to top button