ट्रेवल

रेलवे में लेनी होगी एक साल के बच्चे की टिकट? जाने क्या है नियम की पूरी सचाई

भारतीय रेलवे द्वारा कई नियम बनाये जाते है और रेलवे का उद्देशय लोगों को सिर्फ बेहतर सुविधा देना है इसी को देखते हुए रेलवे के नियम को लेकर एक खबर सामने आ रही है

भारतीय रेलवे द्वारा कई नियम बनाये जाते है और रेलवे का उद्देशय लोगों को सिर्फ बेहतर सुविधा देना है इसी को देखते हुए रेलवे के नियम को लेकर एक खबर सामने आ रही है आपको बता दें कि बीते दिनों में रेलवे में एक साल के बच्चे की टिकट लगने का मामला सामने आया था। आइये जानते है पूरी खबर।

बताया जा रहा की रेलवे ने अब एक साल के बच्चे की टिकट लेना भी शुरू कर दिया है लेकिन हाल ही में इस मामले पर रेलवे ने संज्ञान लिया है और एक बड़ा बयान भी जारी किया है रेलवे ने बताया कि उन्होंने नियमों में किसी भी तरह का बदलाव नहीं किया है।

इस मामले पर रेलवे ने बयान में बताया कि ओखा सोमनाथ एक्सप्रेस की फ़र्स्ट एसी बोगी में एक साल के बच्चे की टिकट लगने का मामला सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था लेकिन बता दें कि इस ट्रैन में 13 अगस्त को मयंक नाम के एक वयक्ति ने राजकोट से सोमनाथ तक के बच्चे के साथ-साथ परिवार के चार लोगों का रेजिस्ट्रेशन कराया था। जिसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ा है लेकिन रेलवे की तरफ से बताया जा रहा है कि यह आदेश वर्ष 2020 के मार्च महीने का है।

इससे उन लोगों को राहत दी गई है जो अपने बच्चों के लिए अलग से बिरथ बुक करना चाहते है लेकिन यह पूरी तरह से वैकल्पिक है। इसलिए रेलवे ने यह पूरी तरह से साफ कर दिया है कि रेलवे के नियमों में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

रेलवे ने यह भी बताया कि मार्च 2020 में 5 से 11 वर्ष के बच्चों के लिए पूरा किराया लेकर बर्थ देने की सुविधा शुरू की गई थी और उसी के साथ-साथ 5 साल से कम उम्र वाले बच्चों के लिए भी यह सेवा शुरू कर दी गई थी। लेकिन अगर किसी व्यक्ति को अपने बच्चे के लिए पूरी बर्थ की जरुरत है तो वह फॉर्म भरकर सुविधा का लाभ उठा सकता है।

Vishalgarh Farms

यह भी पढ़े: दिल्ली- एनसीआर के लाखों लोगों को करना होगा ट्रैफिक का सामना

Jagjeet Singh

जगजीत सिंह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे हैं। इन्होंने टेक्निकल, विश्व और एजुकेशन से सम्बंधित लेखो को अपने लेखन में प्रकाशित किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button