विश्व

COP28 समिट : पीएम ने विकसित देशों से की टेक्नोलॉजी देने की अपील

पीएम ने दुबई में COP28 वर्ल्ड क्लाइमेट एक्शन समिट में लिया हिस्सा,पर्यावरण हेल्थ कार्ड के बारे में दिया सुझाव

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने COP28 वर्ल्ड क्लाइमेट एक्शन समिट में शुक्रवार को दुबई में हिस्सा लिया। इस समारोह में उन्होंने पर्यावरण के हेल्थ कार्ड के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने इस तरह के कार्यक्रमों में सकारात्मक बिंदुओं को शामिल करने की बात कही।

 

पीएम मोदी ने विकसित देशों से टेक्नोलॉजी का ट्रांसफर करने की अपील की, विकासशील और अल्पविकसित देशों को सहायता प्रदान करने के लिए। उन्होंने भारत के इकोलॉजी और इकोनॉमी के संतुलन की तारीफ की और भारतीय मूल के लोगों से मुलाकात की।

 

इस समिट में पीएम मोदी ने COP33 यानी 2028 की क्लाइमेट समिट को भारत में होस्ट करने का प्रस्ताव रखा। उन्होंने भारत के कार्बन उत्सर्जन को 2030 तक 45% तक कम करने की बात दोहराई और ग्लोबल बायो फ्यूल एलायंस की शुरुआत की।

 

लॉस एंड डेमेज फंड के माध्यम से विकसित देश विकासशील देशों को फंड देंगे, जो क्लाइमेट चेंज से आ रही त्रासदियों से अपने लोगों का बचाव करना चाहते हैं। विकासशील देशों ने अमीर देशों से कार्बन उत्सर्जन की वजह से आने वाली मुश्किलों के लिए मदद मांगी है।

 

COP28 का मुख्य एजेंडा है कार्बन उत्सर्जन को कम करना। इसमें 167 नेताओं की भागीदारी है, जो जलवायु परिवर्तन और इसके समाधान पर चर्चा करेंगे। इस बैठक का ध्यान फॉसिल फ्यूल और कार्बन उत्सर्जन पर है।

 

पीएम मोदी ने पिछले कुछ सालों में COP में अपनी भागीदारी बढ़ाई है, जहां उन्होंने क्लाइमेट चेंज से निपटने के लिए नीतियों और कार्यक्रमों पर जोर दिया।

Accherishtey

Related Articles

Back to top button