देशविश्व

वैश्विक जलवायु प्रदर्शन सूचकांक में 7वें स्थान पर पहुंचा भारत

दुबई में आयोजित वैश्विक सीओपी-28 के दौरान हुई घोषणा,भारत ने लगातार पांचवें वर्ष शीर्ष प्रदर्शन करने वालों में खुद को कराया दर्ज

भारत ने जलवायु परिवर्तन के क्षेत्र में महत्वपूर्ण प्रगति की है। इस वर्ष के जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक (सीसीपीआई) में भारत ने अपनी पिछली रैंकिंग से सराहनीय सुधार दिखाया है। यह घोषणा दुबई में आयोजित वैश्विक सीओपी-28 के दौरान हुई, जहां भारत ने लगातार पांचवें वर्ष शीर्ष प्रदर्शन किया।

 

भारतीय सरकार ने नवीकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में अत्यधिक प्रगति की है, जो साथी विकासशील देशों को पीछे छोड़ते हुए अपनी स्थिति को मजबूत किया है।भारतीय खाद्य क्षेत्र में भी विशेष ध्यान दिया गया है, जो सीसीपीआई में महत्वपूर्ण माना जाता है।

 

हालांकि, जीवाश्म ईंधन की भारी निर्भरता के संबंध में एक महत्वपूर्ण विषय उठा है, जिससे इसकी भविष्य की रैंकिंग पर अटकलें लगाई जा रही हैं।

 

इस रिपोर्ट ने नवीकरणीय ऊर्जा की महत्वपूर्ण भूमिका को हाइलाइट किया है और अगले मूल्यांकन में भारत की स्थिति पर प्रभाव डाल सकता है।

 

चीन के साथ तुलनात्मक विश्लेषण से पता चलता है कि भारत का प्रति व्यक्ति उत्सर्जन वैश्विक औसत का आधा है।

 

रिपोर्ट ने आगे बढ़ने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और समर्थन की आवश्यकता बताई है, खासकर जलवायु परिवर्तन और ऊर्जा के क्षेत्र में।

 

साझा जिम्मेदारी की महत्वता को बढ़ावा देने के साथ, रिपोर्ट ने यह भी दिखाया है कि जलवायु परिवर्तन से निपटने के देशों के प्रयासों को निगरानी में रखता है।

 

जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक का मुख्य उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय जलवायु राजनीति में पारदर्शिता बढ़ाना और देशों के जलवायु संरक्षण के प्रयासों को तुलना करना है।

Accherishtey

Related Articles

Back to top button