विश्व

दुनिया में कम पड़ रही कब्रिस्तान के लिए जमीन, फिर कुछ देशों ने किया ये

हांगकांग उन देशों की लिस्ट में शामिल है जो की कब्रिस्तान के लिए जमीन की कमी से सबसे अधिक जूझ रहा है। जमीन कम पड़ने के कारण यहां नए तरीके...

दुनिया में हर धर्म में अंतिम संस्कार को लेकर कुछ न कुछ मान्यताएं हैं जिसे उस धर्म के लोग मानते हैं। जैसे की हिंदू धर्म में शव को जला दिया जाता है और फिर इसके बाद उसकी राख को नदी में प्रवाहित कर दिया जाता है। और इस्लाम धर्म में शवों को जमीन के अंदर दफनाया जाता है और ऐसा ही ईसाई र्धम में भी किया जाता है।

शवों को जिन भी जगहों पर दफनाया जाता है उसे कब्रिस्तान कहते हैं। अगर कुछ रिपोर्ट्स की मानें तो दुनियाभर के कई ऐसे देशों में कब्रिस्तान के लिए जमीन कम पड़ती जा रही है और इसलिए कुछ देशों ने अंतिम संस्कार से जुड़े कुछ नए तरीके इजाद किए हैं।

हांगकांग में ऐसे हो रहा है अंतिम संस्कार

हांगकांग उन देशों की लिस्ट में शामिल है जो की कब्रिस्तान के लिए जमीन की कमी से सबसे अधिक जूझ रहा है। जमीन कम पड़ने के कारण यहां नए तरीके अपनाए गए। डायरेक्टर ऑप फूड एंड इनवायरमेंटल हाइजीन का कहना है की देश के सभी 6 कब्रों में जो लाशें वर्ष 2015 से यहां दफन हैं उनको निकालकर फिर जला दिया जाए।

फ्यूनरल के लिए यह भी है एक तरीका

आपको बता दे की कुछ जगहों पर अंतिम संस्कार को लेकर एक अनोखी परंपरा यह है कि यहां किसी भी मरने वाले को सीधे दफनाने की जगह, मृतक के परिजन उनके शवों को खुद जला कर फिर उसकी राख को एक कलश में लेकर एक A4 साइज के बक्से में रख देते हैं इसके बाद जगह मिलने उस कलश को कब्रिस्तान में दफन कर दिया जाता है और फिर और आपको जानकर यह हैरानी होगी लेकिन इन A4 साइज के बक्सों की कीमत कई लाखों में होती है।

यहां बन रही है अंडरग्राउंड सुरंग

आपको बता दें कि वर्ष 2019 में इजराइल ने एक अनोखी अंडरग्राउंड सुरंग बनाई है और इस सुरंग में लाशों को रखा जाता है और इन सुरंग को पहाड़ों में बनाया गया है। जहां पर बड़े-बड़े हॉल के जैसे कमरे बनाए गए हैं। यहां ऐसा माना जाता है कि कब्रों से किसी भी तरह की छेड़छाड़ करना गलत बात है।

Accherishtey

ये भी पढ़े: 4400cc के इंजन वाली ये नई SUV हुई लॉन्च, बिना पेट्रोल चलेगी 88KM

Gagandeep Singh

गगनदीप सिंह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे है। जहां ये दिल्ली से जुड़ी सारी क्राइम की खबरें निडर होकर अपने लेख से लोगों तक पहुंचाते है

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button