विश्व

पाकिस्तान में भीषण ब्लास्ट, पुलिस गश्ती दल को निशाना बनाकर किया गया विस्फोट, कई लोगों की मौत

पाकिस्तान में भीषण ब्लास्ट की खबर है। पुलिस गश्ती दल को निशाना बनाकर यह विस्फोट किया गया।

पाकिस्तान में भीषण ब्लास्ट की खबर है। पुलिस गश्ती दल को निशाना बनाकर यह विस्फोट किया गया। यह विस्फोट इतना भीषण था कि कई लोगों के परखच्चे उड़ गए। कई मौतों के साथ ही 21 के करीब लोग घायल हो गए। मौतों का आंकड़ा और बढ़ सकता है।

Pakistan News:

पाकिस्तान में लगातार विस्फोट की खबरें आम हैं। एक बार फिर पाकिस्तान में पुलिस के गश्ती दल को निशाना बनाकर भीषण ब्लास्ट किया गया है। इस ब्लास्ट में कई लोगों की मौत की खबर है। वहीं 21 लोग बम ब्लास्ट की चपेट में आकर हताहत हो गए। मौतों का आंकड़ा और बढ़ सकता है। यह जानकारी अधिकारियों ने दी।

पाकिस्ताान अखबार ‘डॉन’ के अनुसार यह घटना डेरा इस्माइल खान शहर में हुई। पुलिस ने बताया कि पोंडा बाजार इलाके में एक मोटरसाइकिल पर लगाए गए इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस से एक गश्ती वैन को निशाना बनाया गया। समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, घटना के बाद बचाव दल के साथ पुलिस की एक बड़ी टुकड़ी इलाके में पहुंची और घायलों को नजदीकी अस्पताल में पहुंचाया।

हाल ही में गोलीबारी से भी पुलिसकर्मी की हुई थी मौत

ब्लास्ट के बाद सुरक्षा बलों ने जगह की घेराबंदी कर दी और आसपास के इलाकों में तलाशी अभियान शुरू कर दिया। किसी भी समूह या व्यक्ति ने विस्फोट की जिम्मेदारी नहीं ली है। शुक्रवार की घटना डेरा इस्माइल खान में एक पुलिस शिविर पर अज्ञात बंदूकधारियों की गोलीबारी में एक पुलिसकर्मी की मौत के कुछ ही दिन बाद हुई है। उसी दिन, खैबर पख्तूनख्वा के दक्षिण वजीरिस्तान जिले में एक आईईडी विस्फोट में दो सैनिक मारे गए।

हाल के महीनों में बढ़ीं आतंकी हमलों की घटनाएं

डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, हाल के महीनों में पाकिस्तान में खासकर खैबर पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान प्रांतों में आतंकवादी हमलों में वृद्धि देखी गई है। पिछले महीने, पाकिस्तान इंस्टीट्यूट फॉर कॉन्फ्लिक्ट एंड सिक्योरिटी स्टडीज (पीआईसीएसएस) ने कहा था कि अगस्त में आतंकवादी हमलों की संख्या लगभग नौ वर्षों में मासिक हमलों की सबसे ज्यादा संख्या थी। पीआईसीएसएस ने कहा था कि देश भर में 99 हमले हुए, जो नवंबर 2014 के बाद से एक महीने में सबसे अधिक संख्या है।

 

 

 

 

 

 

Related Articles

Back to top button