विश्व

विद्रोहियों के सामने कमजोर पडी म्यांमार की सेना जुंटा

विद्रोहियों ने चीन बॉर्डर से जुड़े शहर पर किया कब्जा, सेना ने यहां कर दिया है सरेंडर

म्यांमार में सेना शासन की स्थिति में बड़ी खलबली है। जुंटा को विद्रोहियों से टक्कर का सामना करना पड़ रहा है। इस उतार-चढ़ाव में, विद्रोहियों ने चीन सीमा के पास रणनीतिक शहर लौकई पर कब्जा किया। सेना ने इसे सरेंडर कर दिया।

 

म्यांमार में जुंटा ने सेना के साथ सत्ता संभाली है। इसके बीच, विद्रोहियों का विरोध बढ़ा है। विद्रोहियों ने गठबंधन बनाकर लौकई शहर पर कब्जा किया है। इस गठबंधन का नाम “थ्री ब्रदरहुड एलायंस” है। वे अक्टूबर से लड़ाई जीत रहे हैं।

 

विद्रोहियों ने लौकई पर कब्जा करके म्यांमार सेना को बड़ी चुनौती दी है। सेना ने 2021 में तख्तापलट किया था। विद्रोहियों ने बयान में घोषणा की है कि “संपूर्ण कोकांग क्षेत्र अब बिना म्यांमार सैन्य परिषद की भूमि है”।

 

विद्रोही गठबंधन में म्यांमार नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस आर्मी, ताआंग नेशनल लिबरेशन आर्मी, और अराकान आर्मी शामिल हैं। इसमें पीपुल्स डिफेंस फोर्स भी शामिल है।

 

म्यांमार के कोकांग क्षेत्र में अशांति है। लौकई को इस क्षेत्र का राजधानी माना जाता है। यहाँ जुए के अड्डे और ऑनलाइन स्कैम्स का केंद्र है। चीन को इस क्षेत्र के साथ अच्छे संबंध थे, लेकिन विद्रोह के बाद तनाव बढ़ा है। चीन ने अपने नागरिकों को इस क्षेत्र से बाहर निकलने की सलाह दी है।

Accherishtey

Related Articles

Back to top button