विश्व

Pakistan बनता जा रहा है Bangladesh, 33% से 6% पर आई हिंदुओं की आबादी

बांग्लादेश में हो रही हिंदुओं के खिलाफ हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। बीते हफ्ते एक अफवाह से शुरू हुई हिंसा में काफी हिंदुओं की मौत हो चुकी है।

बांग्लादेश में हो रही हिंदुओं के खिलाफ हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है बीते हफ्ते एक अफवाह से शुरू हुई हिंसा में काफी हिंदुओं की मौत हो चुकी है जबकि, सैकड़ो लोग घायल बताए जा रहे है

आपको बता दें कि पड़ोसी मुल्क बांग्लादेश में अल्पसंख्यकों के खिलाफ हो रही हिंसा के बाद अब हिंदुओं की घटती आबादी की भी खबरे सामने आ रही है 

बांग्लादेश में हिंदुओं की आबादी 33 फीसदी हुआ करती थी जो अब घटकर 6 फीसदी पर पहुँच गई है 1901 में हुई जनगणना के आंकड़े बताते है कि उस वक्त बांग्लादेश में 33 फीसदी हिन्दू और 66 फीसदी मुस्लिम आबादी थी 

बात करे 1951 की तो वहां उस समय मुसलमानो की आबादी बढ़कर 77 फीसदी और हिंदुओं की आबादी घटकर 22 फीसदी हो गई थीहालांकि, उस समय आबादी में गिरावट आने की बड़ी वजह ये भी है कि 1947 में बंटवारे के बाद बड़ी संख्या में हिंदू भारत आ गए थे 

बांग्लादेश में हिंदुओं और अल्पसंख्यकों पर अत्याचार बढ़ता जा रहा है। वहां की जनता का ये भी कहना है कि ये देश अब पाकिस्तान बन गया है और अफगानिस्तान बनने के रस्ते पर है यह भी बताया जा रहा है कि पिछले नौ सालों में हिंदुओं पर करीब 3600 से ज्यादा हमले हुए है 

इतना ही नहीं यह खाली मानवाधिकार संघटनो का आंकड़ा है जबकि, असल में हमले और भी हुए है जीने दर्ज नहीं कराया गया हैवहां के लोगों ने यह भी कहा कि यहाँ मंदिरों को तोड़ा जा रहा है और मुस्लिम लोग आम लोगों पर हमला भी कर रहे है

बांग्लादेश 1971 में पाकिस्तान से अलग होकर एक नया देश बन गया था1972 को बांग्लादेश का नया संविधान बना और उसे धर्मनिरपेक्ष राज्य घोषित किया गयालेकिन 1977 में बांग्लादेश ने खुद को इस्लामिक राष्ट्र घोषित कर दिया था। 

दासगुप्ता का कहना है की हर जगह हिन्दू विरोधी और क़तर लोग रहते है लेकिन उन पर कोई करवाई नहीं होती उन्होंने ये भी कहा कि उनको अब बस प्रधानमंत्री शेख हसीना पर भरोसा है और अगर वो कुछ करती हैं, तभी हिंदू वहां बच सकेंगे

Insta loan services

ये भी पढ़े : दोस्त को दोस्त की मदद करना पड़ा भारी, जानें पूरा मामला

Jagjeet Singh

जगजीत सिंह तेज़ तर्रार न्यूज़ चैनल में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहे हैं। इन्होंने टेक्निकल, विश्व और एजुकेशन से सम्बंधित लेखो को अपने लेखन में प्रकाशित किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button